नीट 2019 के लिए प्रयासों की संख्या और आयु सीमा (NEET number-of attempts and age limit)
Team Careers, 18 अप्रेल 2019
Applications Open Now
Hindustan University-UG Admissions
Apply

नीट 2019 के लिए प्रयासों (अटेम्‍प्‍ट्स ) की संख्या और आयु सीमा - राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) में बैठने वाले कई मेडिकल परीक्षार्थियों के मन में नीट के लिए अटेम्‍प्‍ट्स की संख्या और आयु सीमा से संबंधित नियम और नियमन को लेकर हमेशा भ्रम की स्थिति रहती है। मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) द्वारा नीट पात्रता मानदंड में कई बदलाव किए गए हैं। 1 नवंबर, 2018 को नीट 2019 सूचना विवरणिका (ब्रोशर) जारी होने के साथ ही यह स्पष्ट हो गया है कि वर्ष 2018 में नीट में बैठने की पात्रता में भारतीय चिकित्सा परिषद अधिनियम 1956 और दंत चिकित्सक अधिनियम 1948 के तहत संशोधन किया गया है।

Latest: [Want to Know Colleges, Specialization to Apply on the basis of your NEET Scores, Click here]

सभी परीक्षार्थियों, विशेष रूप से उन लोगों के लिए जो पहले नीट दे चुके हैं और फिर नीट देना चाहते हैं, के लिए अधिकतम अटेम्‍प्‍ट्स और आयु सीमा के बारे में जानना महत्वपूर्ण है। पिछले वर्ष के नीट की तुलना में अटेम्‍प्‍ट्स और आयु के नियम में काफी बदलाव किए गए हैं।

वर्ष 2017 में बड़ा विवाद तब उत्पन्न हुआ, जब सीबीएसई ने बगैर चेतावनी के नीट के लिए अधिकतम आयु और अधिकतम प्रयास की सीमा निर्धारित कर दी थी। नीट 2017 के अधिकतम आयु और अटेम्‍प्‍ट्स के नियम के अनुसार 25 वर्ष से कम उम्र के अनारक्षित परीक्षार्थियों और 30 वर्ष से कम आयु के आरक्षित अभ्‍यर्थियों को ही अधिकतम केवल तीन बार नीट देने की अनुमति दी जाएगी। उच्‍चतम न्‍यायालय ने 2017 में यह नियम निरस्त कर दिया गया था, लेकिन इसे नीट 2018 के लिए लागू किया गया था। हालांकि, प्रयासों की उस सीमा हटा दिया गया है, जिसके अनुसार सभी परीक्षार्थी केवल तीन बार नीट दे सकते थे और इसमें नीट 2017 को पहला प्रयास माना गया था। अब परीक्षार्थी अधिकतम आयु सीमा मानदंड के अनुसार नीट के लिए कई बार आवेदन कर सकते हैं। वर्तमान में एक और नीट 2019 पात्रता विवाद एनआईओएस/ ओपन स्कूल के छात्रों के बारे में चल रहा है। वर्ष 2017 तक उन्‍हें नीट में बैठने की अनुमति दी गई थी, लेकिन एमसीआई ने 2018 से उनके द्वारा नीट देने पर रोक लगा दी थी। पात्रता मानदंड के बारे में अधिक जानकारी इस पेज पर दिए गए एफएक्‍यू में नीट 2019 पात्रता मानदंड पढ़ें। 

NEET College Predictor

Know your admission chances

Use Now

वर्ष में एक बार अखिल भारतीय स्तर पर राष्ट्रीय प्रवेश परीक्षा नीट एकल खिड़की के तौर पर आयोजित की जाती है। इसके जरिए देश भर में लगभग 700 मेडिकल और डेंटल कॉलेजों में लगभग 90,000 एमबीबीएस और बीडीएस सीटों के लिए प्रवेश दिया जाता है। वर्ष 2018 से सभी राज्यों में आयुष पाठ्यक्रमों में प्रवेश भी नीट के स्कोर के आधार पर दिया जाता है। 2016 के उच्‍चतम न्‍यायालय के आदेश के अनुसार 2017 के बाद से ऑल इंडिया प्री मेडिकल टेस्ट (एआईपीएमटी) के स्‍थान पर नीट शुरू की गई है। पहली बार परीक्षा देने वाले और पहले नीट या एआईपीएमटी देने वाले अभ्‍यर्थियों सहित नीट 2019 में 13 लाख से अधिक छात्रों के बैठने की संभावना है। नीट 2019 की तैयारी करने वाले परीक्षार्थी आयु सीमा और अधिकतम अटेम्‍प्‍ट्स के विवरण के लिए नीचे दिए गए ब्‍योरे को पढ़ सकते हैं।

नीट अटेम्‍प्‍ट्स सीमा

परीक्षा आयोजित करने वाले नए प्राधिकरण - नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) के अनुसार नीट प्रवेश परीक्षा के अटेम्‍प्‍ट्स की संख्‍या सीमित हैं। इससे पहले परीक्षा आयोजित करने वाली संस्था- केंद्रीय माध्यमिक परीक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट- सीबीएसई नीट पर कहा, "अटेम्‍प्‍ट्स की संख्या की कोई सीमा नहीं है।" सीबीएसई ने इसके लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के दिनांक 6 दिसंबर, 2017 के पत्र सं.यू.12023 / 16/2010-एमई-II का हवाला भी दिया। इसलिए नीट 2019 के लिए अब तक आधिकारिक नियम है कि अटेम्‍प्‍ट्स की संख्या की कोई सीमा नहीं है।

सीबीएसई ने वर्ष 2017 में तीन बार परीक्षा देने की सीमा का नियम लागू किया गया था, लेकिन अब यह मान्‍य नहीं है। इसलिए, सभी परीक्षार्थी अधिकतम आयु सीमा नियम (अगले भाग में देखें) में अनुमत के अनुसार अनेक बार नीट परीक्षा दे सकतें हैं। 

नीट अधिकतम आयु और न्‍यूनतम आयु सीमा

आधिकारिक सूचना बुलेटिन में दिए गए नीट पात्रता मानदंड के जरिए एनटीए ने यह स्पष्ट कर दिया है कि परीक्षा की तारीख तक अधिकतम 25 वर्ष की उम्र के अनारक्षित परीक्षार्थी नीट 2019 के लिए आवेदन करने के पात्र हैं। जबकि एससी / एसटी / ओबीसी श्रेणी के अभ्यर्थियों की आयु में 5 वर्ष की छूट दी गई है। इसका अर्थ है कि ऐसे परीक्षार्थियों की आयु 5 मई, 2019 तक 30 वर्ष होनी चाहिए। न्‍यूनतम आयु सीमा नियम के अनुसार परीक्षार्थियों की उम्र 31 दिसंबर, 2019 तक 17 वर्ष होनी चाहिए। इसकी स्पष्टता के लिए परीक्षार्थी निम्नलिखित तारीखें देखें:

वर्ग

तारीख 

अनारक्षित 

परीक्षार्थियों का जन्म 5 मई, 1994 और 31 दिसंबर, 2002 के बीच होना चाहिए

आरक्षित (पीएच सहित)

परीक्षार्थियों का जन्म 5 मई, 1989 और 31 दिसंबर 2002 के बीच या उससे पहले होना चाहिए

 

वर्ष 2018 में दिल्ली उच्च न्यायालय ने नीट की अधिकतम आयु सीमा की धारा को बरकरार रखा था, लेकिन बाद में इसके खिलाफ उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर की गई थी। नीट में अधिकतम आयु सीमा को फिर से लागू करने के एनसीआई के फैसले को पहली बार 23 जनवरी, 2018 को प्रकाशित भारतीय गजट अधिसूचना के माध्यम से बताया गया था।

 

अटेम्प्ट्स की संख्या और आयु नियमों के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्न

प्रश्न- मैंने 2018 में नीट की परीक्षा दी थी। मैं अब इसके लिए कितनी बार प्रयास कर सकता हूं?

उत्तर- आप अधिकतम आयु सीमा के भीतर जितनी बार चाहें उतनी बार नीट दे सकते हैं। 

प्रश्न- मैं 2019 में पहली बार नीट दूंगा। मैं कितनी बार परीक्षा दे सकता हूं?

उत्तर- जैसा कि कहा गया है नीट में अटेम्‍प्‍ट्स की अब कोई सीमा नहीं है। परीक्षार्थियों को केवल अधिकतम आयु सीमा मानदंड को पूरा करना होगा।


प्रश्न - मैंने 2015 में एआईपीएमटी और 2016, 2017 तथा 2018 में नीट दी थी। क्या मैं और प्रयास कर सकता हूं?

उत्तर- हां, जब तक आप 25 वर्ष (अगर आप आरक्षित श्रेणी के परीक्षार्थी हैं, तो 30 वर्ष), के नहीं हो जाते, तब तक आप जितनी बार चाहो नीट दे सकतें हैं। 

प्रश्न- मैंने 2016 में नीट दी थी, लेकिन 2017 में नहीं। भविष्य में मैं कितनी बार नीट दे सकता हूं?

उत्तर- अधिकतम आयु सीमा के भीतर आप जितनी बार चाहें उतनी बार नीट दे सकते हैं।

प्रश्न - मैं आरक्षित श्रेणी से हूं। क्या मैं अनारक्षित परीक्षार्थी की तुलना में अधिक बार नीट दे सकता हूं?

उत्तर- जी हां, आप 30 वर्ष की आयु तक जितनी बार चाहें उतनी बार नीट दे सकते हैं, जबकि अनारक्षित परीक्षार्थी केवल 25 वर्ष तक ही नीट दे सकते हैं। आपके पास 5 और अटेम्‍प्‍ट्स हैं।

प्रश्न- मैं अभी 16 वर्ष का हूं और मेरी नीट 2019 में बैठने की योजना है। क्या मैं प्रवेश के लिए पात्र होंगा?

उत्तर- हां, अगर आपकी जन्म तारीख 1 जनवरी, 2003 से पहले है और आपकी उम्र एमबीबीएस तथा बीडीएस प्रवेश के समय तक 17 वर्ष होती है (संभवतया अगस्त 2019 के आसपास) या 31 दिसंबर, 2019 तक आप 17 साल के हो जाते हैं, तो आप नीट के लिए आवेदन करने के पात्र होंगे।

प्रश्न- मेरी जन्म तारीख 1 दिसंबर, 2003 है। क्या मैं नीट 2019 के लिए आवेदन कर सकता हूं?

उत्तर- हां, नीट 2018 पात्रता और आयु मानदंडों के अनुसार, 1 जनवरी, 2003 को या उससे पहले जन्‍में परीक्षार्थी नीट 2018 में बैठ और एमबीबीएस तथा बीडीएस प्रवेश के लिए क्‍वालीफाई कर सकते हैं।


प्रश्न- मेरी उम्र 25 वर्ष से अधिक है और मैंने नीट 2016, नीट 2017 और नीट 2018 दी थी। क्या मैं नीट 2019 दे सकता हूं?

उत्तर- नीट 2019 के लिए लागू अधिकतम आयु सीमा मानदंड के अनुसार अगर आप 7 मई, 1989 को या उसके बाद जन्‍में आरक्षित श्रेणी के परीक्षार्थी नहीं हैं, तो आप आवेदन करने के पात्र नहीं होंगे। यहां आपके पिछले प्रयास नहीं बल्कि केवल आपकी उम्र मायने रखती है।

प्रश्न- मैंने 12 वीं कक्षा एनआईओएस छात्र के रूप में पास की है। क्या मैं आवेदन कर सकता हूं?

उत्तर- जी हां, दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश के अनुसार एनआईओएस छात्र नीट 2019 देने के लिए पात्र हैं। नीट 2018 प्रॉस्पेक्टस और पात्रता नियमों के अनुसार एनआईओएस या ओपन स्कूलिंग बोर्ड से 12 वीं कक्षा पास करने वाले परीक्षार्थियों को अयोग्य घोषित किया गया था, लेकिन अब इसे रद्द कर दिया गया है।


प्रश्न- नीट 2019 में बैठने के लिए न्यूनतम मूल योग्यता क्या है?

उत्तर- नीट 2018 के क्वालीफाइंग एग्‍जाम कोड में से कोड 02 सबसे महत्वपूर्ण है और परीक्षार्थी द्वारा कोई अन्य क्वालिफाइंग कोड पास करने के बावजूद उन्हें कोड 02 में बताए गए कुछ नियमों को पास करना आवश्यक हैं। कोड 02 के अनुसार:

• अभ्यर्थी को 12 साल की उम्र के बाद अपनी उच्च / सीनियर माध्यमिक परीक्षा या भारतीय स्कूल प्रमाणपत्र परीक्षा में बैठना और पास होना चाहिए, जिनमें से अंतिम दो वर्षों में भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान / जैव-प्रौद्योगिकी और अन्य वैकल्पिक विषय के साथ अंग्रेजी का अध्ययन शामिल है (इन विषयों में प्रेक्टिकल टेस्‍ट सहित)।

  • परीक्षार्थी ने 11वीं और 12 वीं कक्षा में भौतिकी, रसायन विज्ञान, जीवविज्ञान / जैव प्रौद्योगिकी और अंग्रेजी का नियमित और निरंतर अध्ययन किया होना चाहिए, इसका अर्थ यह है कि 11वीं और 12 वीं कक्षा के बीच एक वर्ष का गेप नहीं होना चाहिए। परीक्षार्थियों के 12 वीं कक्षा में अंग्रेजी में पास अंक और भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान तथा जीवविज्ञान में कुल 50% (आरक्षित श्रेणी के लिए 40%) अंक होना चाहिए।

  • ओपन स्कूल से या प्राईवेट परीक्षार्थी के रूप में 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण करने वाले परीक्षार्थी नीट देने के पात्र नहीं होंगे। इसके अलावा, 10 + 2 के स्तर पर अतिरिक्त विषय के रूप में जीव विज्ञान / जैव-प्रौद्योगिकी का अध्ययन भी स्वीकार्य नहीं होगा। हालांकि, वे परीक्षार्थी, जिन्होंने दो साल यानी 11 वीं और 12 वीं में प्रेक्टिकल सहित जीव विज्ञान का अध्ययन किया है वे नीट 2018 के लिए आवेदन करने के पात्र होंगे।

हालांकि कई परीक्षार्थियों ने इन नियमों के विरोध में विभिन्न अदालतों में याचिकाएं दायर की थी। नवीनतम नियमों के अनुसार एनआईओएस छात्र भी अब नीट देने के पात्र हैं। जिन छात्रों ने 10 + 2 स्तर पर / इसके बाद अतिरिक्त विषय जीव विज्ञान की अनिवार्यता के नियम खिलाफ याचिका दायर की थी, उन्हें पात्र घोषित किया गया है, लेकिन इसे पात्रता नियम में नहीं डाला गया है। संभावना है कि शासी निकाय इस नियमन को बदल देगा।


नीट अधिकतम आयु सीमा और अधिकतम प्रयास विवाद

सीबीएसई द्वारा वर्ष 2017 में एक अधिसूचना जारी किए जाने के बाद नीट में अधिकतम आयु सीमा और प्रयासों की संख्या के बारे में भ्रम की स्थिति उत्‍पन्‍न होना शुरू हुई और आधिकारिक नीट प्रोस्पेक्टस में भी बताया गया कि “सभी परीक्षार्थी समान रूप से केवल 3 (तीन) बार नीट-यूजी परीक्षा दे सकते हैं। एआईपीएमटी / नीट के पिछले प्रयासों को इन 3 अटेम्‍प्‍ट्स में गिना जाएगा। जो परीक्षार्थी पहले ही 3 बार प्रयास कर चुके हैं, वे नीट (यूजी) 2017 के लिए आवेदन करने के पात्र नहीं हैं। सीबीएसई ने अनारक्षित परीक्षार्थियों के लिए अधिकतम आयु सीमा 25 वर्ष और आरक्षित अभ्‍यर्थियों के लिए 30 वर्ष निर्धारित करते हुए कहा, “नीट-यूजी की परीक्षा की तारीख को अनारक्षित परीक्षार्थियों के लिए अधिकतम आयु सीमा 25 वर्ष है, जबकि अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग के अभ्‍यर्थियों को इसमें 5 वर्ष की छूट दी गई है।”

इन नियमों के लागू होने से जबरदस्त विवाद हुआ, जिसके कारण नीट देने वालों के बीच कोहराम मच गया। नीट अटेम्‍प्‍ट्स के नियम लागू करने के एक सप्ताह के भीतर ही एमसीआई ने प्रयासों के पिछले मानदंड को समाप्त कर दिया। संशोधित पात्रता पर स्पष्टीकरण देते हुए एमसीआई ने एमएचएफडब्‍ल्‍यू को सूचित किया कि एआईपीएमटी /नीट के लिए परीक्षार्थियों द्वारा 2017 से पहले किए गए प्रयासों को नहीं गिना जाएगा। मार्च में इसी पर उच्‍चतम न्‍यायालय के आदेश के बाद अधिकतम आयु सीमा को हटा दिया गया था। सीबीएसई को उन नियमों के तहत पात्र नहीं माने गए परीक्षार्थियों के एप्‍लीकेशन फार्म के लिए दोबारा विंडो खेलनी पड़ी थी और इस मामले में अदालती फैसले के चलते मई में नीट एडमिट कार्ड जारी करने में भी विलंब  हुआ।

वर्ष 2018 में अधिकतम आयु सीमा को फिर से लागू किया गया था। हालांकि, ऐसे परीक्षार्थियों को परीक्षा बैठने की अनुमति दी गई थी, लेकिन परिणाम घोषित नहीं किया गया था। इसके लिए उच्‍चतम न्‍यायालय के निर्णय की प्रतीक्षा है। ऐसा लगता है कि 1 नवंबर को नीट के आधिकारिक बुलेटिन जारी करने के साथ ही इस साल भी इसी तरह के विवाद पैदा हो सकते हैं। अब यह देखना है कि क्या शासी निकाय ऐसे परीक्षार्थियों को परीक्षा के लिए अचानक अयोग्य घोषित किए जाने पर छात्रों की निराशा पर विचार करती है या नहीं। तब तक, ऊपर बताए गए मानदंड लागू रहेंगे।

Applications Open Now

Graphic Era University Admissions 2019
Graphic Era University Admiss...
Apply
Hindustan University-UG Admissions
Hindustan University-UG Admis...
Apply
United Group of Institutions
United Group of Institutions
Apply
View All Application Forms

संबंधित लेख और समाचार

Top
150M+ छात्र
24,000+ कालेजों
500+ परीक्षा
1500+ ई बुक्स