नीट 2020 के लिए प्रयासों की संख्या और आयु सीमा (NEET 2020 number of attempts and age limit)
Gaurav.pandey, 10 अक्टूबर 2019

नीट 2020 के लिए प्रयासों की संख्या और आयु सीमा - राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) देने के इच्छुक कई मेडिकल परीक्षार्थियों के मन में नीट 2020 के अटैम्प्ट की संख्या और आयु सीमा से संबंधित नियम और नियमन को लेकर हमेशा भ्रम की स्थिति रहती है। इसकी शुरूआत और बाद में किये गए परिवर्तनों के बाद से ही, नीट 2020 अटैम्प्ट की संख्या और आयु सीमा से जुड़े भ्रम अभी भी मौजूद हैं। हालांकि पहले नीट 2020 अटैम्प्ट की संख्या और आयु सीमा की लिमिट तय थी लेकिन कोर्ट ने इसे ख़ारिज कर दिया था और अब आज की तारीख में यह प्रचलित नहीं है। कोर्ट द्वारा किये गए नए प्रतिवर्तन तब तक जारी रहेंगे जब तक कि कोर्ट कोई अन्य आदेश नहीं देता है। इस पर और अधिक स्पष्टता नीट 2020 अधिसूचना के साथ दी जाएगी जो नीट परीक्षा के लिए 2 दिसंबर, 2019 को जारी की जाएगी। नीट 2020 के लिए प्रयासों की संख्या और आयु सीमा से जुड़ी अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां नीचे दिए लेख से प्राप्त करें।

LATEST: एनटीए, नीट 2020 एप्लीकेशन फॉर्म 2 दिसंबर, 2019 से जारी करेगा।

Latest :  Crack NEET 2020 with NEET Knockout Program( AI-Based Coaching), If you Do Not Qualify- Get 100% MONEY BACK. Know More

नीट के अधिकतम प्रयासों और आयु सीमा को जानना सभी उम्मीदवारों के लिए महत्वपूर्ण है, विशेषकर ऐसे छात्रों के लिए जो पूर्व में नीट परीक्षा दे हैं और फिर से इसके लिए उपस्थित होना चाहते हैं। 2018 में प्रयासों और उम्र के नियम में किए गए बड़े बदलावों को अदालत में डाली गई याचिका पर हुई सुनवाई के बाद हटा दिया गया था। छात्रों द्वारा पूर्व में किये गए हंगामे को देखते हुए नीट 2020 के लिए प्रयासों की संख्या और आयु सीमा पर प्रतिबंध लगने की उम्मीद नहीं है।

NEET Online Preparation

Crack NEET 2020 with NEET Knockout Program, If you Do Not Qualify- Get 100% MONEY BACK

Start Now

2017 से नीट अटैम्प्ट की संख्या और आयु सीमा से जुड़े घटनाक्रम:

नीट 2017 में बड़ा विवाद तब उत्पन्न हुआ, जब सीबीएसई ने बगैर चेतावनी के नीट के लिए अधिकतम आयु और अधिकतम प्रयास की सीमा निर्धारित कर दी थी। तब यह निर्धारित किया गया था कि नीट 2017 के अधिकतम आयु और अटैम्प्ट नियम के अनुसार 25 वर्ष से कम उम्र के अनारक्षित परीक्षार्थियों और 30 वर्ष से कम आयु के आरक्षित श्रेणी के अभ्‍यर्थियों को ही अधिकतम केवल तीन बार नीट परीक्षा देने की अनुमति दी जाएगी। उच्‍चतम न्‍यायालय ने 2017 में यह नियम निरस्त कर दिया गया था, लेकिन इसे नीट 2018 में फिर से कुछ बदलावों के बाद लागू किया गया था। हालांकि, प्रयासों की उस सीमा हटा दिया गया है, जिसके अनुसार सभी परीक्षार्थी केवल तीन बार नीट दे सकते थे और इसमें नीट 2017 को पहला प्रयास माना गया था। अब परीक्षार्थी अधिकतम आयु सीमा मानदंड को ध्यान में रखते हुए नीट के लिए कई बार आवेदन कर सकते थे।

इसके अलावा एक अन्य नीट 2019 पात्रता विवाद एनआईओएस/ ओपन स्कूल के छात्रों के बारे में चल रहा था। वर्ष 2017 तक उन्‍हें नीट में बैठने की अनुमति दी गई थी, लेकिन एमसीआई ने 2018 से उनके द्वारा नीट देने पर रोक लगा दी थी। 2019 में नीट पात्रता मानदंड के इस क्लॉज़ को बाद में रद्द कर दिया गया था और ओपन स्कूल के छात्रों को परीक्षा में शामिल होने की अनुमति दी गई थी। एक अन्य विवाद अतिरिक्त विषय के रूप में जीव विज्ञान को लेकर था। इस क्लॉज़ को भी निरस्त कर दिया गया था और ऐसे छात्रों को 2019 में परीक्षा की अनुमति दी गई थी।

नीट, अखिल भारतीय स्तर की राष्ट्रीय स्तर की प्रवेश परीक्षा है, जिसे 529 कॉलेजों की लगभग 75893 एमबीबीएस सीटों और 313 कॉलेजों की 26693 बीडीएस सीटों पर एडमिशन देने के लिए आयोजित किया जाता है। इनमें 2019 में शुरू की गईं ईडब्ल्यूएस श्रेणी की सीटें शामिल हैं। सभी राज्यों के सभी आयुष पाठ्यक्रमों में भी प्रवेश नीट परीक्षा के अंकों के आधार पर ही होते हैं। नीट ने वर्ष 2017 के बाद से ऑल इंडिया प्री मेडिकल टेस्ट (AIPMT) की जगह ले ली।

नीट अटैम्प्ट लिमिट 2020

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) जो अब नीट परीक्षा की कंडक्टिंग बॉडी है, के अनुसार, वर्तमान में नीट 2020 के लिए प्रयासों की संख्या की कोई सीमा निर्धारित नहीं की गई है। यह कथन नीट परीक्षा के पूर्ववर्ती आयोजक निकाय केंद्रीय माध्यमिक परीक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के नीट वेबसाइट डाले गए स्पष्टीकरण, "अटेम्‍प्‍ट्स की संख्या की कोई सीमा नहीं है" के अनुरूप ही है। सीबीएसई ने इसके लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के दिनांक 6 दिसंबर, 2017 के पत्र सं.यू.12023 / 16/2010-एमई-II का हवाला भी दिया। इसलिए, प्रयासों की संख्या पर अगले आदेश तक कोई लिमिट नहीं है। सीबीएसई द्वारा वर्ष 2017 में शुरू किए गए तीन प्रयास की सीमा के नियम अब लागू नहीं होते हैं। इसलिए, सभी उम्मीदवार अब नीट के लिए जितनी बार चाहें उतनी बार उपस्थित हो सकते हैं।

2019 के अनुसार नीट अधिकतम आयु और न्‍यूनतम आयु सीमा

वर्ष 2019 में, आधिकारिक सूचना बुलेटिन में दिए गए नीट पात्रता मानदंड के जरिए एनटीए ने यह स्पष्ट कर दिया था कि परीक्षा की तारीख तक अधिकतम 25 वर्ष की उम्र के अनारक्षित परीक्षार्थी नीट के लिए आवेदन करने के पात्र थे। जबकि एससी / एसटी / ओबीसी श्रेणी के अभ्यर्थियों की आयु में 5 वर्ष की छूट दी गई थी। इसका अर्थ था कि ऐसे परीक्षार्थियों की आयु 5 मई, 2019 तक 30 वर्ष होनी चाहिए थी। न्‍यूनतम आयु सीमा नियम के अनुसार परीक्षार्थियों की उम्र 31 दिसंबर, 2019 तक 17 वर्ष होनी चाहिए। इसकी स्पष्टता के लिए परीक्षार्थी निम्नलिखित तारीखें देखें:

श्रेणी

तारीख

अनारक्षित

परीक्षार्थियों का जन्म 5 मई, 1994 और 31 दिसंबर, 2002 के बीच होना चाहिए

आरक्षित (पीएच सहित)

परीक्षार्थियों का जन्म 5 मई, 1989 और 31 दिसंबर 2002 के बीच होना चाहिए


उपरोक्त ऊपरी आयु सीमा क्लॉज़ को छात्रों द्वारा विरोध करने और अदालतों में चुनौती देने के बाद हटा दिया गया था। वर्ष 2018 में दिल्ली उच्च न्यायालय ने नीट की अधिकतम आयु सीमा की धारा को बरकरार रखा था, लेकिन बाद में इसके खिलाफ उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर की गई थी। नीट ऊपरी आयु सीमा को फिर से लागू करने के MCI के फैसले को पहली बार 23 जनवरी, 2018 में प्रकाशित भारतीय राजपत्र अधिसूचना के माध्यम से बताया गया था।

नीट अधिकतम आयु सीमा और अधिकतम प्रयास विवाद

सीबीएसई द्वारा वर्ष 2017 में एक अधिसूचना जारी किए जाने के बाद नीट में अधिकतम आयु सीमा और प्रयासों की संख्या के बारे में भ्रम की स्थिति उत्‍पन्‍न होना शुरू हुई थी और आधिकारिक नीट प्रोस्पेक्टस में भी बताया गया था कि "सभी परीक्षार्थी समान रूप से केवल 3 (तीन) बार नीट-यूजी परीक्षा दे सकते हैं। एआईपीएमटी / नीट के पिछले प्रयासों को इन 3 अटेम्‍प्‍ट्स में गिना जाएगा। जो परीक्षार्थी पहले ही 3 बार प्रयास कर चुके हैं, वे नीट (यूजी) 2017 के लिए आवेदन करने के पात्र नहीं हैं।" सीबीएसई ने अनारक्षित परीक्षार्थियों के लिए अधिकतम आयु सीमा 25 वर्ष और आरक्षित अभ्‍यर्थियों के लिए 30 वर्ष निर्धारित करते हुए कहा था, “नीट-यूजी की परीक्षा की तारीख को अनारक्षित परीक्षार्थियों के लिए अधिकतम आयु सीमा 25 वर्ष है, जबकि अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग के अभ्‍यर्थियों को इसमें 5 वर्ष की छूट दी गई है।”

इन नियमों के लागू होने से जबरदस्त विवाद हुआ, जिसके कारण नीट परीक्षा देने वाले छात्रों के बीच कोहराम मच गया। नीट अटैम्प्ट के नियम लागू करने के एक सप्ताह के भीतर ही एमसीआई ने इसे हटा दिया। संशोधित पात्रता पर स्पष्टीकरण देते हुए एमसीआई ने एमएचएफडब्‍ल्‍यू को सूचित किया कि एआईपीएमटी /नीट के लिए परीक्षार्थियों द्वारा 2017 से पहले किए गए प्रयासों को नहीं गिना जाएगा। मार्च में इसी पर उच्‍चतम न्‍यायालय के आदेश के बाद अधिकतम आयु सीमा को हटा दिया गया था। सीबीएसई को उन नियमों के तहत पात्र नहीं माने गए परीक्षार्थियों के एप्‍लीकेशन फार्म के लिए दोबारा विंडो खेलनी पड़ी थी और इस मामले में अदालती फैसले के चलते मई में नीट एडमिट कार्ड जारी करने में भी विलंब हुआ।

वर्ष 2018 में अधिकतम आयु सीमा को फिर से लागू किया गया था। ऐसे उम्मीदवारों को न केवल परीक्षा के लिए उपस्थित होने बल्कि इसके एडमिशन में भी शामिल होने की अनुमति दी गई थी। नीट 2020 के लिए, अभी तक ऐसा कोई संकेत नहीं है कि ये नियम दोबारा से लागू किये जा सकते हैं। इन मुद्दों पर अदालत के फैसले का अभी भी इंतजार है और उम्मीदवारों को आवेदन करने से पहले नीट 2020 पात्रता मानदंडों की जानकारी लेनी चाहिए।

Applications Open Now

KIIT University (KIITEE- 2020)
KIIT University (KIITEE- 2020)
Apply
UPES - School of Health Sciences
UPES - School of Health Sciences
Apply
MyNEET 2020- Mock Test
MyNEET 2020- Mock Test
Apply
View All Application Forms

संबंधित लेख और समाचार

Top
150M+ छात्र
24,000+ कालेजों
500+ परीक्षा
1500+ ई बुक्स