नीट 2020 के बाद क्या करें? - जानें एमबीबीएस / बीडीएस एडमिशन का रोडमैप - नीट के माध्‍यम से भारत में चिकित्सा शिक्षा प्रणाली मानकीकृत अवश्य हुई है, लेकिन 'नीट 2020 के बाद क्या करें' प्रश्न अभिभावकों और परीक्षार्थियों के लिए अभी भी पहेली बना हुआ है। इसके अलावा, अधिवास आवश्यकताओं की पूर्ति के साथ नीट स्कोर के माध्यम से विभिन्न राज्यों में एडमिशन अभ्यर्थियों को दुविधा में डाल देता है। 76,928 एमबीबीएस, 26,949 बीडीएस और 52,720 आयुष सीटों के लिए सरकारी, डीम्ड और प्राइवेट कॉलेजों में दाखिले के लिए नीट 2020 हेतु 15 लाख से अधिक पंजीकरण हुए हैं। वर्ष 2020 से, एम्स एमबीबीएस और जिपमर एमबीबीएस भी नीट के दायरे में आ गया है। 1207 एम्स और 200 जिपमर सीटों पर एडमिशन नीट 2020 के स्कोर के आधार पर दिया जाएगा। इसलिए, इससे छात्रों को नीट 2020 के बाद और अधिक भ्रम हो सकता है। इन भ्रमों और दुविधाओं को दूर करने के लिए इस लेख में विस्तृत तौर पर जानकारियां प्रदान की गई हैं।
Latest: एनटीए, नीट एडमिट कार्ड को 27 मार्च को जारी करेगी;

Latest: [Crack NEET 2020 with NEET Online Preparation Program, If you Do Not Qualify- Get 100% MONEY BACK] Know more

Applications Open Now
MANIPAL, MAHE Admissions 2020
Apply
Lovely Professional University Admissions 2020
Apply
नीट 2020 के बाद क्या करें? (What after NEET in Hindi?)

‘अगर मैं किसी विशेष राज्य का मूल निवासी नहीं हूं, इसके बावजूद क्या मैं वहां एमबीबीएस/बीडीएस काउंसलिंग के लिए आवेदन कर सकता हूँ?’, नीट संपन्‍न होने के बाद मुझे कौन-कौन से फ़ॉर्म भरने होंगे’, नीट 2020 क्वालिफाई करने के बाद मुझे क्या करना होगा?' जैसे कई सवाल परीक्षार्थियों और उनके माता-पिता के मन में चलते रहते हैं। परीक्षार्थियों को नीट के जरिए एमबीबीएस/बीडीएस की प्रवेश प्रक्रिया को आसान तरीके से समझाने के लिए कॅरियर्स360 'यहां नीट 2020 के बाद क्या करें?' विषय पर विस्तृत और शिक्षाप्रद लेख प्रदान कर रहा है। नीट प्रवेश प्रक्रिया की पेचीदगियों में फंसने से पहले नीट 2020 और इससे जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों पर सरसरी नजर डालें।

NEET 2020 online preparation

Crack NEET 2020 with NEET Online Preparation Program, If you Do Not Qualify- Get 100% MONEY BACK

Know more

नीट 2020 के बारे में

नीट 2020 का आयोजन राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए) द्वारा 3 मई को किया जाएगा। नीट 2020 आवेदन पत्र 2 दिसंबर को जारी किया गया था, जबकि उम्मीदवार 31 दिसंबर, 2019 तक पंजीकरण कर सकते थे। केवल पंजीकृत उम्मीदवार ही 27 मार्च से नीट 2020 एडमिट कार्ड डाउनलोड कर पाएंगे।

राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (एनईईटी) एमबीबीएस, बीडीएस और आयुष पाठ्यक्रमों - बीएचएमएस, बीएएमएस, बीयूएमएस, बीवीएससी और एएच में प्रवेश के लिए देश की एक मात्र सबसे बड़ी स्नातक चिकित्सा प्रवेश परीक्षा है। एम्स और जिपमर का अब नीट में विलय हो गया है। इनके लिए कोई अलग प्रवेश परीक्षा नहीं है। नीट के माध्यम से 76,928 मेडिकल, 26,949 डेंटल, 52,720 आयुष, 1205 एम्स और 200 जिपमर सीटों पर एडमिशन प्रदान किये जाएंगे।

Applications Open Now
SRM B.Tech - Admissions 2020
# 1 Pvt University | 8000+ Job Offers | NAAC 'A++' Grade
Apply
UPES School of Health Sciences
1st Indian university with QS 5 Stars Global Rating for Employability
Apply

एमबीबीएस/बीडीएस प्रवेश के लिए नीट 2020 के बाद क्या?

नीट परीक्षा समाप्त होने के बाद, उम्मीदवार प्राप्त किए जाने वाले अंकों की गणना के लिए अनऑफिशियल या ऑफिशियल आंसर की का उपयोग कर सकते हैं। नीट 2020 परिणाम 4 जून को स्कोरकार्ड के रूप में घोषित किया जाएगा। परिणाम की घोषणा के साथ, वास्तविक रैंक का उपयोग करके, उम्मीदवार ऑफर किए जाने वाले कॉलेजों का अनुमान लगा सकते हैं। नीट प्रवेश प्रक्रिया, परिणाम की घोषणा के एक सप्ताह के बाद शुरू होगी। नीट 2020 के बाद के दोनों चरणों, यानि परीक्षा के तुरंत बाद और नीट रिजल्ट के बाद की अवधि की महत्वपूर्ण विशेषताएं नीचे दी गई हैं:

नीट 2020 के बाद क्या करें? - परीक्षा के तुरंत बाद

परीक्षा समाप्त होने और नीट परिणाम जारी होने के बाद, उम्मीदवार दो महत्वपूर्ण कार्य कर सकते हैं -

  • नीट 2020 स्कोर की गणना करना

  • नीट 2020 रैंक का अनुमान लगाना

नीट स्कोर और रैंक का अनुमान लगा लेने से उम्मीदवारों को उन मेडिकल / डेंटल कॉलेजों के बारे में जानकारी प्राप्त करने में मदद मिलेगी जो उन्हें पिछले वर्ष के नीट एडमिशन ट्रेंड्स के आधार पर मिल सकते हैं। हालांकि एनटीए मई के अंतिम सप्ताह में फाइनल नीट 2020 आंसर की जारी करेगी। नीट आंसर की 2020 में उपलब्ध सही उत्तरों का उपयोग करते हुए, उम्मीदवार प्राप्त किए जाने वाले अनुमानित अंकों की गणना कर सकते हैं। एक बार नीट स्कोर की गणना कर लेने के बाद, छात्र नीट अंक बनाम रैंक ट्रेंड का उपयोग करके अपनी रैंक का अनुमान लगा सकते हैं।

नीट 2020 के बाद क्या करें? - परिणाम की घोषणा के बाद

नीट 2020 परिणाम घोषित होने के बाद एमबीबीएस / बीडीएस प्रवेश के लिए काउंसलिंग प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। नीट कटऑफ 2020 में न्यूनतम आवश्यक क्‍वालीफाइंग पर्सेंटाइल हासिल करने वाले अभ्यर्थी ही काउंसलिंग प्रक्रिया में शामिल हो सकेंगे और प्रवेश के लिए उन्‍हीं पर विचार किया जाएगा। नीट 2020 क्वालीफाई करने के लिए सामान्य कैटेगरी के उम्मीदवार को कम से कम 50वां पर्सेंटाइल (एससी/ एसटी / ओबीसी के लिए 40 वां पर्सेंटाइल) स्कोर करना होगा।

  1. परीक्षा क्वालीफाई करना (नीट कटऑफ स्कोर हासिल करके)।

  2. काउंसलिंग प्रक्रिया के लिए आवेदन करें।

  3. काउंसलिंग में शामिल होकर प्रवेश सुरक्षित करें

एमबीबीएस/बीडीएस में प्रवेश के लिए नीट काउंसलिंग प्रक्रिया को समझना

‘नीट के बाद के क्या’ से जुड़े पहलू परीक्षा परिणाम की घोषणा के बाद शुरू होने वाली विभिन्न काउंसलिंग प्रक्रियाओं से संबंधित हैं, जिनसे परीक्षार्थी और उनके माता-पिता अक्सर भ्रमित रहते हैं। यहां तक कि जब तक कोई काउंसलिंग के प्रकार को समझ पाता है और सीटों की संख्या के बारे में जान पाता है, तब तक कोई नया पात्रता मानदंड सामने आ जाता है जिसे समझना थोड़ा कठिन होता है। आइए नीट एमबीबीएस/बीडीएस प्रवेश प्रक्रिया संबंधी भ्रम को दूर कर विस्‍तार से यह समझें कि ‘नीट के बाद क्या’ करना है।

नीट 2020 क्वालीफाई करने वाले परीक्षार्थियों के लिए उपलब्ध एमबीबीएस/बीडीएस सीटें

क्र. सं.

सीट का प्रकार

काउंसलिंग प्राधिकरण

1.

सभी एआईक्‍यू (ऑल इंडिया कोटा) सीटें*

स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय (डीजीएचएस)

2.

डीम्ड और केंद्रीय विश्वविद्यालयों की सभी सीटें

स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय (डीजीएचएस)

3.

राज्य के सरकारी कॉलेजों में राज्य कोटे की सीटें (केवल मूल निवासी परीक्षार्थियों के लिए उपलब्ध)

राज्य काउंसलिंग प्राधिकरण

4.

पूरे देश के सभी प्राइवेट कॉलेज (राज्य कोटे की सीटों को छोड़कर, जो केवल मूल निवासी परीक्षार्थियों के लिए उपलब्ध हैं)

राज्य काउंसलिंग प्राधिकरण

*जम्मू-कश्मीर (जे एंड के) के अभ्यर्थी एआईक्यू काउंसलिंग के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं, क्योंकि जे एंड के ने अपनी स्थापना से ही 15% एआईक्यू योजना से बाहर रहने का विकल्प चुना है।

नीट 2020 की विभिन्न सीटों के लिए आवेदन प्रक्रिया

नीट 2020 के बाद काउंसिलिंग से संबंधित कई प्रश्न परीक्षार्थियों के मन में आ सकते हैं, इनके बारे में स्पष्ट जानकारी नीचे दी गई विभिन्न आवेदन प्रक्रियाओं के माध्यम से प्राप्त की जा सकती है:

1. ऑल इंडिया कोटा (एआईक्‍यू) सीटें

देश के सभी सरकारी मेडिकल और डेंटल कॉलेजों (केंद्र शासित प्रदेश जम्मू, कश्मीर और लद्दाख को छोड़कर) की एमबीबीएस/बीडीएस सीटों में से 15% सीटें नीट एआईक्‍यू योजना के लिए रखी गई हैं, जिसके लिए नीट 2020 क्वालीफाई करने वाले सभी परीक्षार्थी (नीट एप्‍लीकेशन फार्म भरते समय स्व-घोषणा पत्र जमा नहीं करने वाले जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के परीक्षार्थियों को छोड़कर) आवेदन कर सकते हैं। इसका मतलब यह है कि अगर कोई परीक्षार्थी हरियाणा का है, तो वह एआईक्‍यू के तहत हरियाणा सहित अन्य राज्यों के सरकारी कॉलेजों में प्रवेश ले सकेगा।

एआईक्‍यू काउंसलिंग के लिए आवेदन करने हेतु मेडिकल काउंसलिंग कमेटी (एमसीसी) की ओर से स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय (डीजीएचएस) द्वारा एआईक्‍यू काउंसलिंग फॉर्म जारी किए जाने पर आपको उन्‍हें भरना होगा। नीट 2020 एआईक्‍यू काउंसलिंग जून के दूसरे सप्ताह से शुरू होने की संभावना है। जारी हो जाने के बाद, इस पेज पर नीट काउंसलिंग 2020 रजिस्ट्रेशन लिंक प्रदान किया जाएगा।

2. डीम्ड और सेंट्रल यूनिवर्सिटी में सीटें

केंद्रीय और डीम्ड विश्वविद्यालयों में सभी सीटें उन सभी उम्मीदवारों के लिए भी खुली हैं जो नीट 2020 उत्तीर्ण कर लेते हैं। केंद्रीय विश्वविद्यालयों में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू), बनारस हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू), दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) और जामिया मिल्लिया इस्लामिया (जेएमआई) से संबद्ध कॉलेज शामिल हैं।

एआईक्यूई के समान ही डीजीएचएस डीम्ड और केंद्रीय विश्वविद्यालयों के लिए काउंसलिंग प्राधिकरण है। नीट 2020 डीम्ड और केंद्रीय विश्वविद्यालयों की काउंसलिंग भी संभवतया जून के दूसरे सप्ताह से से शुरू होगी। इनमें एमबीबीएस / बीडीएस सीटों के वास्‍ते आवेदन करने के लिए आपको डीजीएचएस द्वारा डीम्ड और केंद्रीय विश्वविद्यालयों की काउंसलिंग के लिए अलग से जारी किया गया फॉर्म भरना होगा।

3. राज्य सरकार के कॉलेज

नीट के बाद क्या, इसके बारे में सोचने वाले अधिकतर परीक्षार्थियों को यह स्‍पष्‍ट होता है कि नीट के बाद उन्‍हें किन वरीयता वाले राज्यों में आवेदन करना है। एआईक्‍यू में 15% सीटें सरेंडर करने के बाद सरकारी मेडिकल और डेंटल कॉलेजों के पास जो 85% सीटें रहती हैं, वे राज्य कोटे की सीटों के अंतर्गत आती हैं। ये सीटें आम तौर पर केवल उन परीक्षार्थियों के लिए होती हैं, जो इन राज्यों से संबंधित हैं। उदाहरण के लिए हरियाणा में राज्य कोटे की सीटों के तहत प्रवेश पाने के लिए केवल वही परीक्षार्थी आवेदन कर सकते हैं जो हरियाणा के हैं।

अपने राज्य के सरकारी कॉलेजों में राज्य कोटे की सीटों के वास्‍ते आवेदन करने के लिए परीक्षार्थियों को संबंधित राज्य काउंसलिंग प्राधिकरण द्वारा जारी किए गए एप्‍लीकेशन फॉर्म को भरना होगा। कुछ राज्य नीट से पहले ही अपनी आवेदन प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं, लेकिन नीट परिणाम घोषित होने के बाद वे सभी नीट 2020 राज्य कोटा काउंसलिंग एप्‍लीकेशन्‍स भी जारी कर देंगे। सभी राज्यों के लिए राज्य कोटे की सीटों को एक्सेस करने और आवेदन करने का यहां लिंक उपलब्ध कराया जाएगा।

4. प्राइवेट कॉलेज की सीटें

नीट के बाद अधिकतर छात्रों की दुविधा का समाधान प्राइवेट कॉलेज की सीटों की बदौलत हो जाता है, क्योंकि इनके लिए मूल निवास की आवश्यकताएं ज्यादा कठोर नहीं होती हैं और छात्र अपनी पसंद के अधिकतर राज्यों में इन सीटों के लिए आवेदन कर सकते हैं। नीट 2020 क्वालीफाई करने वाले सभी परीक्षार्थी संबंधित राज्य काउंसलिंग प्राधिकरण के एप्‍लीकेशन फॉर्म भरकर पूरे देश के प्राइवेट मेडिकल और डेंटल कॉलेजों में सीटों के लिए आवेदन कर सकते हैं। हालांकि, कुछ प्राइवेट कॉलेज राज्य कोटे के लिए कुछ प्रतिशत सीटें अलग रखते हैं, जिसके लिए केवल उन्‍हीं राज्यों के परीक्षार्थी आवेदन कर सकते हैं।

राज्य कोटे की सीटों के लिए काउंसलिंग करने वाले राज्य काउंसलिंग प्राधिकरण ही प्राइवेट कॉलेजों के लिए भी काउंसलिंग आयोजित करते हैं। जहां कुछ राज्य पहले से ही अपनी आवेदन प्रक्रिया शुरू कर देते हैं, वहीं नीट परिणाम घोषित होने के बाद अधिकतर राज्य नीट 2020 राज्य काउंसलिंग एप्‍लीकेशन्‍स (प्राइवेट कॉलेजों के लिए) जारी करेंगे।

विशेष पात्रता आवश्यकताओं के साथ एमबीबीएस / बीडीएस सीटें

ऊपर बताई गई सीटों के अलावा एएफएमसी, पुणे में एमबीबीएस/बीडीएस की सीटें हैं, जो ईएसआईसी कॉलेजों में बीमित व्यक्ति (आईपी) के वार्ड के लिए आरक्षित हैं। एआईक्यू और डीम्ड / केंद्रीय विश्वविद्यालयों के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित करने वाला निकाय - डीजीएचएस एएफएमसी, पुणे में शुरुआती एमबीबीएस प्रवेश और ईएसआईसी कॉलेजों में एमबीबीएस / बीडीएस सीटों के लिए आवेदन करने वाले सभी आईपी वार्डों के लिए भी काउंसलिंग आयोजक प्राधिकरण है।

एएफएमसी में प्रवेश के लिए या ईएसआईसी में आईपी वार्ड कोटे के तहत आने के लिए इच्छुक और पात्र परीक्षार्थी संबंधित काउंसलिंग प्रक्रियाओं के लिए डीजीएचएस वेबसाइट के जरिए अलग से आवेदन कर सकते हैं। ईएसआईसी और एएफएमसी, पुणे में आईपी वार्ड की सीटों के लिए आवश्‍यक समग्र विशेष पात्रता नीचे दिया गया है।

एमबीबीएस / बीडीएस सीटें

सीट का प्रकार

पात्रता

एएफएमसी, पुणे

आपके द्वारा डीजीएचएस आवेदन प्रक्रिया के माध्यम से एएफएमसी के लिए आवेदन करने के बाद, एएफएमसी परीक्षार्थियों को शॉर्टलिस्ट करेगा और फिर एडमिशन देने के लिए स्क्रीनिंग के अन्य राउंड्स आयोजित करेगा। एएफएमसी के लिए पात्रता मानदंडों में आयु सीमा, आवश्यक ऊंचाई आदि शामिल हैं।

ईएसआईसी में आईपी वार्ड की सीटें

ईएसआईसी संस्थानों में बीमित व्यक्ति (आईपी) कोटा सीटों के लिए डीजीएचएस अलग से एप्‍लीकेशन फॉर्म और प्रवेश प्रक्रिया शुरू करता है। नीट 2019 के बाद से इसके लिए आवेदन करने वाले परीक्षार्थियों के लिए आवश्यक मूल पात्रता में से एक माता-पिता में से किसी एक का 1 जनवरी, 2019 तक 5, 4 या 3 वर्षों के लिए निरंतर बीमा योग्य रोजगार सृजित करते हुए, ईएसआई अधिनियम के तहत परिभाषित बीमाधारक होना आवश्यक है।

काउंसलिंग प्रक्रिया

इसमें कोई संदेह नहीं है कि परीक्षार्थियों के लिए नीट परीक्षा के बाद सबसे महत्‍वपूर्ण प्रक्रिया काउंसलिंग में शामिल होना होती है। नीट रिजल्ट में उत्तीर्ण हुए परीक्षार्थियों को काउंसलिंग के लिए एप्‍लीकेशन फॉर्म भरना होता है। इसके बाद की अन्य सभी आवश्यक प्रक्रियाएं काउंसलिंग प्राधिकरण के नियमित अपडेट के माध्‍यम से स्‍वत: ही होती जाएंगी। हालांकि महत्वपूर्ण बातों के बारे में पहले से जानना हमेशा बेहतर होता है, क्‍योंकि इनकी मदद से आप अपनी आगे की तैयारी बेहतर रूप में कर सकते हैं। नीट के बाद क्या किया जाए, यह समझने में परीक्षार्थियों की मदद के लिए यहां काउंसलिंग प्रक्रिया का विवरण दिया गया है –

एआईक्‍यू सीट काउंसलिंग: डीजीएचएस 15% एआईक्‍यू एमबीबीएस/बीडीएस सीटों के लिए काउंसलिंग के दो राउंड आयोजित करता है। दूसरा राउंड समाप्त होने के बाद बची हुई सीटें (अगर हों तो) राज्यों को वापस स्थानांतरित कर दी जाती हैं। पिछले वर्ष 235 मेडिकल और डेंटल कॉलेजों में लगभग 4591 एमबीबीएस / बीडीएस सीटें, 15% ऑल इंडिया कोटे के तहत उपलब्ध थीं।

डीम्ड / सेंट्रल यूनिवर्सिटी काउंसलिंग: डीजीएचएस डीम्ड और सेंट्रल यूनिवर्सिटी के लिए काउंसलिंग के दो राउंड आयोजित करता है, उसके बाद एक मॉप अप राउंड होता है।

ईएसआईसी काउंसलिंग के लिए एएफएमसी और आईपी वार्ड्स: एएफएमसी पुणे और ईएसआईसी कॉलेजों में एमबीबीएस / बीडीएस कोर्स में एडमिशन के लिए डीजीएचएस ही काउंसलिंग बॉडी है। इन सीटों के लिए इच्छुक और पात्र परीक्षार्थियों को डीजीएचएस पोर्टल के माध्यम से अपना पंजीयन करना चाहिए।

राज्य कोटा काउंसलिंग: संबंधित राज्य काउंसलिंग प्राधिकरण अपने राज्यों में 85% राज्य कोटे की सीटों के लिए काउंसलिंग आयोजित करते हैं। ये सीटें आमतौर पर राज्यों के मूल निवासी परीक्षार्थियों के लिए आरक्षित होती हैं। राज्य कोटे की सीटों के लिए काउंसलिंग दो से तीन राउंड में आयोजित होती है, इसके बाद मॉप-अप राउंड होता है।

प्राइवेट कॉलेज काउंसलिंग: राज्य कोटे की सीटों के लिए काउंसलिंग करने वाला काउंसलिंग प्राधिकारण ही राज्य के प्राइवेट कॉलेजों में एमबीबीएस / बीडीएस सीटों के लिए काउंसलिंग करेगा। काउंसलिंग तीन से चार राउंड में की जा सकती है, जिसके बाद खाली बची सीटों के आधार पर मॉप अप राउंड आयोजित होगा।

पंजीयन प्रक्रिया के बाद आवश्यक दस्तावेज

नीट 2020 के बाद क्या करना चाहिए यह जानने के इच्‍छुक परीक्षार्थी ध्यान दें कि अगर वे ऊपर बताई गई किसी भी काउंसलिंग प्रक्रिया के लिए आवेदन करते हैं, तो वे पाएंगे कि अधिकतर काउंसलिंग प्राधिकरण अपनी मेरिट लिस्‍ट जारी कर इनमें से पात्र परीक्षार्थियों को स्टेट रैंक देंगे। कुछ राज्य काउंसलिंग प्राधिकरण नीट मेरिट लिस्‍ट 2020 के दो सेट भी जारी कर सकते हैं, जिनमें से एक सरकार के लिए और दूसरा प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों के लिए होगी। संबंधित काउंसलिंग के दौरान निम्नलिखित कुछ अनिवार्य दस्तावेज हैं जिन्हें आपको आने साथ ले जाना चाहिए:

  • नीट एडमिट कार्ड 2020

  • नीट रैंक लेटर

  • 10वीं या 12वीं कक्षा के प्रमाण पत्र और मार्कशीट

  • आईडी प्रमाण पत्र

  • मूल निवासी प्रमाण (केवल राज्य कोटे की सीटों के लिए)

नीट 2020 – राज्य काउंसलिंग प्राधिकरण

नीट स्टेट एडमिशन

बिहार एमबीबीएस एडमिशन

उत्‍तराखंड एमबीबीएस एडमिशन

यूपी एमबीबीएस एडमिशन

एमपी एमबीबीएस एडमिशन

राजस्‍थान एमबीबीएस एडमिशन

पंजाब एमबीबीएस एडमिशन

हरियाणा एमबीबीएस एडमिशन

चंडीगढ़ एमबीबीएस एडमिशन

डीयू एमबीबीएस एडमिशन

एचपी एमबीबीएस एडमिशन

छत्‍तीसगढ़ एमबीबीएस एडमिशन

असम एमबीबीएस एडमिशन

गुजरात एमबीबीएस एडमिशन

आईपीयू एमबीबीएस एडमिशन

जे एंड के एमबीबीएस एडमिशन

झारखंड एमबीबीएस एडमिशन

कर्नाटक एमबीबीएस एडमिशन

केरल एमबीबीएस एडमिशन

महाराष्‍ट्र एमबीबीएस एडमिशन

मेघालय एमबीबीएस एडमिशन

मणिपुर एमबीबीएस एडमिशन

ओडिशा एमबीबीएस एडमिशन

तेलंगाना एमबीबीएस एडमिशन

त्रिपुरा एमबीबीएस एडमिशन

तमिलनाडु एमबीबीएस एडमिशन

गोवा एमबीबीएस एडमिशन

आंध्र प्रदेश एमबीबीएस एडमिशन

पश्चिम बंगाल एमबीबीएस एडमिशन

अगर आप नीट 2020 में एमबीबीएस सीट हासिल नहीं कर पाते हैं तो क्या होगा?

फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक डॉ. संजय गोगोई ने बड़ी खूबसूरती से कहा, “डॉक्टर बनने की दिशा में आगे बढ़ने के लिए सिर्फ एक एमबीबीएस सीट चाहिए होती है। आप सभी शायद पहली बार में नीट क्वालीफाई ना कर पाएं, लेकिन उम्मीद ना छोड़ें। कोशिश करते रहें, कड़ी मेहनत करें। याद रखें कि आपको केवल एक एमबीबीएस सीट चाहिए और देश में 60,000 से अधिक सीटें हैं।”

अगर कोई इच्छित एमबीबीएस सीट हासिल नहीं कर पाता है, तो वह नीट के लिए फिर से आवेदन कर सकता है, क्योंकि नीट के लिए अब प्रयासों की कोई सीमा नहीं रह गई है। इसके अलावा परीक्षार्थियों को यह भी याद रखना चाहिए कि नीट 2020 स्कोर से न केवल एमबीबीएस सीटों पर प्रवेश दिया जाएगा, बल्कि बीडीएस, बीएएमएस, बीएचएमएस, बीयूएमएस, बीवाईएमएस, बीएसएमएस और बैचलर ऑफ वेटरनरी साइंसेज सहित कई अन्य कोर्सेज में भी इसी स्‍कोर के आधार पर प्रवेश दिया जाएगा। परीक्षार्थियों के लिए मेडिकल फील्ड में ढेर सारे विकल्प उपलब्ध हैं और उन्हें नीट के बाद क्या करना है, इसके बारे में वे तसल्‍ली से सोच-विचार कर सकते हैं।

यह भी याद रखना चाहिए कि चिकित्सा डोमेन में कई अलग-अलग क्षेत्र होते हैं, जो मेडिकल सिस्टम के सुचारू संचालन के लिए अत्यधिक महत्वपूर्ण हैं और अगर इनमें आपकी रुचि है तो आप इन्‍हें भी अपना सकते हैं। नीट के बगैर किये जा सकने वाले कुछ प्रमुख कोर्सेज में फार्मेसी, नर्सिंग, बायोटेक्नोलॉजी, बायोमेडिकल इंजीनियरिंग, फॉरेंसिक साइंस, क्लिनिकल साइकोलॉजी, मेडिकल लैब टेक्नोलॉजिस्ट, ऑप्टोमेट्री आदि प्रमुख हैं, इसलिए बिल्कुल चिंता न करें कि नीट 2020 के बाद क्या होगा, बल्कि आत्मविश्वास से परिपूर्ण होकर अपने सपने के मेडिकल कॅरियर को प्राप्त करने की दिशा में प्रयास करते रहें।

Applications Open Now

Sharda University - SUAT Admission Test 2020
Sharda University - SUAT Admi...
Apply
MANIPAL, MAHE Admissions 2020
MANIPAL, MAHE Admissions 2020
Apply
SRM B.Tech - Admissions 2020
SRM B.Tech - Admissions 2020
Apply
Lovely Professional University Admissions 2020
Lovely Professional Universit...
Apply
NMIMS NPAT 2020
NMIMS NPAT 2020
Apply
UPES School of Health Sciences
UPES School of Health Sciences
Apply
Symbiosis Entrance Test (SET-2020)
Symbiosis Entrance Test (SET-...
Apply
View All Application Forms

संबंधित लेख और समाचार

Top
150M+ छात्र
24,000+ कालेजों
500+ परीक्षा
1500+ ई बुक्स